Sex Life: आपकी सेक्स लाइफ को बढ़ाने के लिए योग है बोहोत जरुरी

0

अध्ययनों के अनुसार, नियमित रूप से योग का अभ्यास करने से कोर्टिसोल का स्तर कम हो सकता है, जो बदले में शरीर में तनाव के स्तर को कम करता है। तनाव का स्तर बढ़ने पर आपकी यौन इच्छा कम हो सकती है। योग आपको अधिक लचीला बनने में मदद कर सकता है और सामान्य यौन क्रिया में भी सहायता कर सकता है। यह आपको सिखाता है कि अपने दिमाग को कैसे प्रबंधित करें और अपने शरीर पर कैसे ध्यान दें। इसके अतिरिक्त, यह वर्तमान के बारे में आपकी जागरूकता को बढ़ाता है, जो सेक्स को संतुष्ट करने के लिए आवश्यक है।

अपने कूल्हों, जांघों और कमर को खोलने की अनुमति देकर, आप अपने पैरों को आसानी से फैला सकते हैं और विभिन्न सेक्स पोजीशन के साथ प्रयोग कर सकते हैं। शुरू करने के लिए अपनी पीठ के बल लेट जाएं। इस बिंदु पर, अपने घुटनों को अपने पेट की ओर उठाएं। अपने पैरों को अलग करें, अपने घुटनों को खोलते हुए अपने पैर की उंगलियों को संबंधित भुजाओं से पकड़ें। स्ट्रेच करने के लिए अपने हाथों से नीचे की ओर खींचते हुए अपनी एड़ियों को ऊपर उठाएं।

सेतु बंधासन – ब्रिज पोज

सेतु बंधासन

आपकी श्रोणि की मांसपेशियां, जो स्वस्थ सेक्स के लिए महत्वपूर्ण हैं, इस मुद्रा की मदद से मजबूत होंगी। जैसे ही आप शुरू करते हैं, अपनी पीठ के बल लेट जाएं। अब दोनों घुटनों को मोड़ते हुए अपने पैरों को हिप-चौड़ाई से अलग रखें। अपनी हथेलियों को नीचे करके, अपनी बाहों को फर्श पर रखें। अपने कंधों और सिर को फर्श पर रखते हुए, अपने श्रोणि क्षेत्र और धड़ को ऊपर उठाएं। धीरे-धीरे अपनी प्रारंभिक मुद्रा में लौटने से पहले थोड़ी देर रुकें। कई बार दोहराएं। सुनिश्चित करें कि आपकी पीठ के निचले हिस्से में खिंचाव नहीं हो रहा है।

उत्थान प्रतिष्ठासन – छिपकली की मुद्रा

उत्थान प्रतिष्ठासन
उत्थान प्रतिष्ठासन

इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से प्रजनन अंगों में रक्त का प्रवाह बढ़ता है, जिससे यौन क्रिया में वृद्धि हो सकती है। अपने हाथों को अंदर और एक पैर सामने रखते हुए, चारों तरफ से शुरू करें। या तो अपने पैर की उंगलियों के साथ ऊपर उठाएं या अपनी पीठ के घुटने को नीचे रखें। अपने कूल्हों को ढीली करने और अपने अग्रभागों को नीचे करने की अनुमति देते हुए अपनी छाती को ऊपर उठाएं। दो मिनट के लिए, लगातार सांस लें; फिर, जब आप तैयार हों, तो धीरे-धीरे जाने दें।

कपालभाति प्राणायाम – सांसों को ऊर्जावान बनाना

कपालभाति प्राणायाम
कपालभाति प्राणायाम

2019 के एक अध्ययन के अनुसार, यह साँस लेने की विधि वास्तव में “यौन क्रिया की अवधि को काफी बढ़ा सकती है,” पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए आनंद बढ़ा सकती है।
इसे प्राप्त करने के लिए आंखें बंद करके सीधे बैठ जाएं और अपने नासिका छिद्र से जबरदस्ती सांस छोड़ते हुए अपने पेट को अंदर खींच लें। यह स्वतः ही श्वास ले लेगा। साँस छोड़ने पर ध्यान दें। 10 साँस छोड़ने के एक दौर से शुरू करें और धीरे-धीरे राउंड और साँस छोड़ने की संख्या बढ़ाएँ क्योंकि आपकी क्षमता में सुधार होता है।

सवासना – लाश मुद्रा

सवासना
सवासना

आप शवासन के माध्यम से पल में पूरी तरह से उपस्थित होना सीखते हैं। यह आपको आराम करने और शांति का अनुभव करने में सक्षम बनाता है। गहरी सांस लेने से खुशी बढ़ती है, खासकर ऑर्गेज्म के दौरान। अपने पैरों और बाहों के साथ अपनी पीठ के बल लेटकर शुरुआत करें और अपनी आँखें बंद करें। अपनी हथेलियों को ऊपर की ओर छत या आकाश की ओर मोड़ें, अधिक धीरे से सांस लें और पांच मिनट तक रहें। यह न केवल आपके शरीर को आराम देने में मदद करता है, बल्कि यह एक शानदार मानसिक कसरत भी है। अपनी आलोचना करने या अपने विचारों की अवहेलना करने के बजाय, अपने आप को और अपने विचारों को स्वीकार करने का प्रयास करें।

सभी पढ़ें नवीनतम जीवन शैली समाचार तथा आज की ताजा खबर यहां

Artical secend