प्रकृति से नजदीकियां मिटा देंगी तनाव और डिप्रेशन, हाई ब्लड प्रेशर की हो जाएगी ‘छुट्टी’

0
बेहतर हेल्थ के लिए हर सप्ताह बाहर जाकर कम से कम 120 मिनट बिताने चाहिए.
30 मिनट तक आउटडोर एक्टिविटीज से हाई ब्लड प्रेशर की समस्या नहीं होती.

Nature and Well-being Connection: अधिकतर लोग शहर की भागदौड़ से परेशान होकर शांति और सुकून के पल बिताने के लिए प्रकृति की गोद में जाना पसंद करते हैं. कुछ लोग पहाड़ों पर वक्त बिताने के शौकीन होते हैं तो कुछ लोगों को समुद्र के रेतीले तट आकर्षित करते हैं. ऐसी जगह पर काफी शांति होती है और आप प्रकृति के साथ वक्त बिता सकते हैं. टोक्यो यूनिवर्सिटी की हालिया रिसर्च में पता चला है कि प्रकृति के साथ समय बिताने से लोगों की फिजिकल और मेंटल हेल्थ बेहतर हो जाती है. इससे बीमारियों से राहत मिलती है. प्रकृति हमारे लिए बेहद फायदेमंद है. इससे होने वाले हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में जान लेते हैं.

इन परेशानियों से मिलती है राहत
हेल्थलाइन की रिपोर्ट
के मुताबिक अब तक कई स्टडी में यह बात सामने आ चुकी है कि प्रकृति और आसपास के वातावरण का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर पॉजिटिव असर होता है. प्राकृतिक वातावरण में रहने से हार्ट रेट, ब्लड प्रेशर और मांसपेशियों में तनाव कम हो जाता है. इसके अलावा स्ट्रेस, एंजाइटी और डिप्रेशन में काफी हद तक राहत मिलती है. सेल्फ एस्टीम और सेल्फ कॉन्फिडेंस बढ़ जाता है. प्रकृति के जरिए मानवीय संबंधों का विकास होता है. क्रिएटिविटी को बढ़ावा मिलता है और आप संतुष्ट महसूस करते हैं. यह सभी बदलाव जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए जरूरी होते हैं. जब आप बीमारियों से दूर रहते हैं तो जिंदगी बेहतर हो जाती है.

प्रकृति के साथ बताएं इतना वक्त
सभी को यह समझने की जरूरत है कि नेचर के साथ वक्त आप किसी पार्क, गार्डन या खुले मैदान में बैठकर भी बिता सकते हैं बिजी शेड्यूल के साथ आउटडोर एक्टिविटीज में शामिल होने के लिए घंटों बिताना संभव नहीं होता है. खासकर उन लोगों के लिए जो शहरी क्षेत्रों में रहते हैं. 2019 के एक अध्ययन में पाया गया कि हर सप्ताह बाहर जाकर कम से कम 120 मिनट बिताने चाहिए. हर दिन करीब 20 से 30 मिनट तक आउटडोर एक्टिविटीज से ब्लड प्रेशर को लगभग 10% कम किया जा सकता है. अगर आपको इतना वक्त भी नहीं मिल पा रहा है तो 10-15 मिनट अपने लिए जरूर निकालें. मेंटल हेल्थ का ख्याल रखना बेहद जरूरी होता है.

यह भी पढ़ेंः इस तरह की आदतें कम उम्र में हड्डियों को कमजोर करती हैं, अभी से हो जाएं सावधानी

Artical secend